Sunday, 17 February 2013

Koldam migrants Start Fight Against Management


परियोजना प्रबंधकों के खिलाफ विस्थापितों ने की जोरदार नारेबाजी



एनटीपीसी कोलडैम में संघर्ष कर रहे विस्थापितों व प्रभावितों ने शनिवार को हरनोड़ा में सुबह 7 से लेकर 12 बजे तक जोरदार प्रदर्शन किया तथा परियोजना प्रबंधक वर्ग के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों ने एनटीपीसी के हरनोड़ा स्थित गुणवत्ता भवन के बाहर एनटीपीसी के जीएम का पुतला भी फूंका। धरने को संबोधित करते हुए अनिल भारद्वाज, अजय शर्मा, अनिल ठाकुर, बाबूराम ठाकुर व सुरेश गौतम ने कहा कि एनटीपीसी विस्थापितों के हितों से कुठाराघात कर रही है, इसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अपने हक-हकूक के लिए वह कोई भी कुर्बानी देने से गुरेज नहीं करेंगे। 

सभी वक्ताओं ने कहा कि सदर के विधायक के हस्तक्षेप के बावजूद भी एनटीपीसी प्रबंधन उनकी मांगों को मानने के लिए तैयार नहीं है। उन्होंने मांग की है कि विस्थापित परिवारों को पुश्त दर पुश्त स्थायी रोजगार उपलब्ध करवाया जाए, प्रस्तावित हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज में विस्थापितों व प्रभावितों के बच्चों के दाखिलों में 30 प्रतिशत कोटा दिया जाए, बिजली ,पानी और स्वास्थ्य सुविधाएं मुफ्त में उपलब्ध करवाई जाए, बच्चों की शिक्षण संबंधी सभी जरूरतों परियोजना प्रबंधन मुफ्त में उपलब्ध करवाए तथा प्रत्येक गावं की अन्य समस्याओं का तुरंत समाधान किया जाए। सभी वक्ताओं ने चेतावनी दी है कि यदि उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो विस्थापित व प्रभावित सोमवार से पूरे दिन की हड़ताल शुरू कर देंगे। जिसकी सारी जिम्मेदारी प्रबंधन वर्ग की होगी।