Sunday, 17 February 2013

MLA Fail to stop villeger campaign




लोगों ने आंदोलन को उग्र रूप देने का मन बनाया 

भास्कर न्यूज, बिलासपुर 

कोलडैम में चल रही हड़ताल को समाप्त कराने पहुंचे सदर विधायक बंबर ठाकुर की कोशिशें नाकाम रही हैं। एनटीपीसी से वार्ता करने गए विधायक की बैठक को विस्थापितों ने सिरे से खारिज कर दिया है और बैठक को विस्थापित विरोधी करार दिया है। बैठक में प्रभावित संघर्ष समिति के पदाधिकारियों को शामिल न करने से बैठक के औचित्य पर ही प्रश्नचिन्ह लग गया है। बैठक में लिए गए निर्णय भी अभी तक सार्वजनिक नहीं हुए हैं। कोलडैम परियोजना में विस्थापितों और प्रभावितों के आंदोलन में राजनीति के घुस जाने से लोगों के हकों का न्याय मिल पाना दूर दिख रहा है। पिछले तीन दिनों से जारी लोगों के हकों को लेकर किए जा रहे इस आंदोलन में की जा रही राजनीति से विस्थापित और प्रभावित भड़क उठे हैं। आंदोलन के संयोजक बाबूराम ठाकुर ने एनटीपीसी प्रबंधन ने बिलासपुर सदर के विधायक बंबर ठाकुर के साथ की गई वार्ता को फेल करार दिया है। उनका कहना है कि विस्थापितों और प्रभावितों के इस आंदोलन को राजनीतिक रूप से समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा है जिसको लेकर लोग भड़क उठे हैं । 


लोगों ने अब अपने आंदोलन को और उग्र रूप देने का मन बना लिया है । ठाकुर ने कहा कि विस्थापित और प्रभावित अपने हकों को लेकर अपनी लड़ाई लड़ रहे है जो कि अपने अंत समय तक लड़ी जाएगी । उन्होंने आरोप लगाया कि आंदोलन को कुचलने के लिए घटिया स्तर के हथकंडे अपनाए जाने लगे हैं जिसका विस्थापित और प्रभावित लोग एकजुट होकर विरोध करेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि बरमाणा थाना प्रभारी ने जमथल क्षेत्र में विस्थापित और प्रभावित लोगों के आंदोलन की कड़ी में चल रहे शांतिपूर्ण प्रदर्शन में अपना पुलसिया रौब दिखाकर लोगों को धमकाया। जिसकी शिकायत डीजीपी से की जाएगी। ठाकुर ने कहा कि कोलडैम से प्रभावित और प्रभावित लोग एकजुटता से इस लड़ाई को लडेंग़े और उनके 
लिए पैदा की जा रही हर मुश्किल का डट कर सामना करेंगे । 

विधायक ने किया पत्रकार से अभद्र व्यवहार 


कोलडैम परियोजना में चल रहे विस्थापितों और प्रभावितों के आंदोलन में वार्ता करने पंहुचे बिलासपुर सदर के विधायक बंबर ठाकुर की क्षेत्र के प्रतिष्ठित पत्रकार और विस्थापित कश्मीर ठाकुर से बहस और अभद्र व्यवहार करने की खबर है । पत्रकार कश्मीर ठाकुर ने बताया कि उन्होंने केवल विस्थापितों के चल रहे आंदोलन में पंहुचे हुए विधायक का फोटो कवरेज करने के लिये लेना चाहा तो विधायक महोदय न जाने किस बात को लेकर भड़क उठे और उन्हे अनाप शनाप बोलना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति का मान-सम्मान होता है और विधायक महोदय ने अपने पद की गरिमा को नजरअंदाज करते हुए सार्वजनिक रूप से उनके साथ अभद्र व्यवहार कर डाला जो कि उन्हें शोभा नहीं देता। जिला पत्रकार संघ ने इस घटना पर ऐतराज जताते हुए इसे निंदनीय करार दिया है ।